कुछ और भी तलाशें

Saturday, 19 July 2008

जीजा ने शादी से इंकार किया तो साली ने भांजी का अपहरण कर प्रताड़ित किया

अपनी बहन की मौत के बाद साली ने जीजा से विवाह करने की इच्छा जताई। जीजा ने साली से विवाह करने से इनकार किया तो नाराज साली ने अपनी भांजी का अपहरण कर लिया। अपहरण के बाद उस साली ने अपनी बहन की बेटी को तरह-तरह से प्रताड़ित किया। आखिरकार मुंब्रा पुलिस ने 14 साल आयशा को उसकी मौसी के चंगुल से छुड़ाया और मौसी के एक साथी को गिरफ्तार किया। फरार मौसी बदरूनिशा ने अग्रिम जमानत ले रखी है पुलिस उसकी जमानत अवधि खत्म होने का रास्ता देख रही है।

नवभारत टाइम्स की ख़बर है कि जहीर बेग अपनी बेटी आयशा व पत्नी के साथ मुंब्रा के कौसा परिसर में रहता था। साल 2004 में जहीर की पत्नी की मौत हो गई थी। पत्नी के मौत के बाद छोटी आयशा की देखभाल के लिए पिता जहीर ने दूसरा विवाह करने की सोची। जहीर की मृत पत्नी की बहन बदरूनिशा ने अपने जीजा के सामने स्वयं के विवाह का प्रस्ताव रखा। जीजा ने साली से विवाह करने से साफ इनकार कर दिया था। इसके बाद से नाराज बदरूनिशा ने जीजा से बदला लेने की ठान ली। पिछले दिनों मौका पाकर बदरूनिशा ने जहीर की बेटी आयशा का अपहरण कर लिया और उसे मीरा रोड स्थित अपने दोस्त इरफान के घर में कैद कर रख दिया। बदरूनिशा जीजा से बदला लेने के लिए अपहरण के बाद आयशा को प्रताडि़त करने लगी और आयशा से कहा कि वह पुलिस में अपने पिता के खिलाफ यौन प्रताड़ना का मामला दर्ज कराए।

इसी बीच आयशा ने अपनी मौसी बदरूनीशा के मोबाइल फोन से अपने पिता के मोबाइल पर कई बार मिस कॉल दिया। मिस्ड कॉल मिलता देख जहीर को संदेह हुआ और उसने यह बात मुंब्रा पुलिस को बताई। मुंब्रा पुलिस ने इस कॉल को ट्रेस किया और फिर मीरा रोड स्थित एक घर पर छापा मारकर वहां बंद आयशा को उसकी मौसी के चंगुल से मुक्त कराया। पुलिस ने वहां उपस्थित इरफान नामक युवक को धर दबोचा। आयशा को उसके पिता के हवाले किया गया है।

3 comments:

महेंद्र मिश्रा said...

bada dukhad samachaar hai .

Udan Tashtari said...

अजब बात है..अफसोसजनक.

कामोद Kaamod said...

अफसोसजनक.